भईया जी इस बार दिवाली पे फिर से अपने ज्ञान का पिटारा ले कर आयें हैं . लेकिन मज़े की बात ये है की इस बार वो फंस  गये हैं एक दादा और पोते के बीच में . हंसी के फुहारों के बीच दिवाली पे क्या करना चाहिए और क्या नहीं इसे सुनें , मज़ा आजाएगा !!

Leave a Reply